header image
 

गाँधी जी के एक दोस्त पर क़त्ल का झूठा इलज़ाम लग गया।
गाँधी जी ने मुकदमा लड़ा और अपने दोस्त को बचा लिया।
वो गाँधी जी का बहुत आभारी हुआ और उसने गाँधी जी से एक सवाल पूछा,
“कल जब आप नहीं होंगे तो लोगों को कौन बचाएगा?”
गाँधी जी ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया,
“नोटों पर लगी मेरी फोटो से ही सब काम हो जायेंगे।”

एक अनपढ़ लड़की की शादी कुछ ज्यादा ही पढ़े-लिखे लड़के से हो गई।
एक दिन लड़की ने बेहद लजीज खाना बनाया, जिसे पति बड़े चाव से खा रहा था कि तभी एक निवाला उसके गले मे अटक गया।
वह खांसते-खांसते मर गया।
पत्नी रोते-रोते बोली,,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
हाय यह क्या हो गया, पानी भी नहीं मांग सके।
वॉटर-वॉटर कहते हुए ही मर गए।।

पड़ोसी- माताजी, आप बार-बार घर के अंदर-बाहर क्यों आ-जा रही हैं? कोई प्रॉब्लम है क्या?



बूढ़ी औरत- नहीं बेटा, मेरी बहू टीवी देखकर योगा कर रही है।



उसमें बाबाजी कह रहे हैं कि सास को बाहर करो…सास को अंदर करो…

लड़की:माँ मैंने अपने लिए लड़का खोज लिया है मैं उसी से शादी करुँगी.
माँ:बेशर्म खानदान की इज़्ज़त का ध्यान नहीं है तुझे,कौन है वो हरामखोर
लड़की:माँ वो प्याज बेचता है
माँ:मेरी लाड़ली बेटी,तूने खानदान को धन्य कर दिया ऐसा दामाद खोजकर

दो गूंगे ऊ….उ…उ…करके बात कर
रहे थेँ
.
.
.
.
इससे पहले मुझे दया आती
.
.
.
उससे पहले सालो ने गुटका थूककर बात करना शुरू
कर दी।

« Older Entries